इनहेरीटेन्स (Inheritance)

OOP का एक महत्वपूर्ण गुण है, पहले से लिखे हुए कोड का पुनः प्रयोग (रीयूज़ेबिलिटी)। जावा में पहले से बनाई गई क्लास को extend करते हुए नए कार्यों के लिए प्रयोग में लिया जा सकता है। इस प्रक्रिया को इनहेरीटेन्स कहते हैं। जावा में हम नई क्लास बनाते समय पहले से बनाई गई क्लास की प्रोपर्टीज़ तथा मैथड्स को पुनः प्रयोग में ले सकते हैं।

पहले बनाई गई क्लास को बेस क्लास, सुपर क्लास या पेरेन्ट क्लास कहते हैं तथा नई क्लास जिसमें पहले बनाई गई क्लास की प्रोपर्टीज़ का प्रयोग कर सकते हैं, को सब क्लास, डिराइव्ड क्लास या चाईल्ड क्लास कहते हैं। इनहेरीटेन्स की सहायता से हम पेरेन्ट क्लास के सभी वेरिएबल तथा मैथड्स का प्रयोग चाईल्ड क्लास में कर सकते हैं। इनहेरीटेन्स के निम्न प्रकार होते हैं -

  • सिंगल इनहेरीटेन्स (Single Inheritance)
  • मल्टीलेवल इनहेरीटेन्स (Multilevel Inheritance)
  • हाइरार्कीकल इनहेरीटेन्स (Hierarchical Inheritance)
  • मल्टीपल इनहेरीटेन्स (Multiple Inheritance)

ध्यान दें, जावा में हम मल्टीपल इनहेरीटेन्स को सीधे सीधे प्रयोग में नहीं ला सकते, मल्टीपल इनहेरीटेन्स के सिद्धान्त को हम जावा में इन्टरफेस की सहायता से प्रयोग में लाते हैं। किसी क्लास को निम्न प्रकार से इनहेरिट किया जा सकता है -

class ChildClassName extends ParentClassName
{
	variable declaration;
	method declaration;
}

यहाँ पर extends कीवर्ड यह दर्षाता है कि पेरेन्ट क्लास की प्रोपर्टीज़ का चाईल्ड क्लास में प्रयोग किया जा सकता है।

सुझाव / कमेंट